क्रिकेट झांसी

क्रिकेट झांसी

time:2021-10-25 17:36:53 ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस Views:4591

नवीनतम बैकारेट प्ले क्रिकेट झांसी lovebet नूबैंक स्वीकार करता है,fun88 एक्सचेंज,lovebet 30/1 इंग्लैंड जीतने के लिए,lovebet अच्छा या बुरा,lovebet स्पीडी 7 ट्रिक्स,lovebet और सी,बैकारेट 88,बकारट मियामी,बेस्ट फाइव कोट्स अम्ब्रेला एकेडमी,बोनस जिन्स,कैसीनो मैं मोनाको,शतरंज 5 मिनट का खेल,क्रिकेट ऐप डाउनलोड,क्रिकेट विक्टोरिया,एस्पोर्ट्स शर्ट,फुटबॉल एक श्रृंखला,फ्री बैकारेट गेम,हैप्पी सिटी किसान hk,बैकारेट अनुशंसा कैसे देखें,क्या बैकारेट में जीतने का कोई तरीका है?,केरल लाटरी का परिणाम,लाइव कैसीनो साइन अप बोनस,लॉटरी इतिहास ड्रा,लूडो रश,ऑनलाइन बैकरेट पोकर,ऑनलाइन गेम लोगो निर्माता,ऑनलाइन स्लॉट echtgeld,रम्मी में बिंदु,पोकर यू जंबू,रूले हॉट नंबर,रम्मी 7 कार्ड,रम्मीकल्चर रेफरल कोड क्या है,स्लॉट 888 कैसीनो,खेल करुरी,ताई खेल lovebet,सबसे तेज़ बास्केटबॉल लाइव स्कोर,वैन ईक एस्पोर्ट्स,किस प्लेटफॉर्म की वेबसाइट का स्पीड टेस्ट सबसे अच्छा है,cricket गेम,ओल्ड गोवा,क्रिकेट ताज्या बातम्या,चेस गेम कैसे खेलते हैं,थिसारा परेरा cricket,बरसात छम छम,रमी कैसे खेली जाती है,स्टेटस छत्तीसगढ़ी, .ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस

ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.
ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे अहम समय यानी पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. लेकिन अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.

सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है. अब ये कंपनियां मूल किराए के डेढ़ गुने से अधिक किराया नहीं वसूल सकेंगी.

दरअसल सरकार का यह कदम अहम इसलिए भी हो जाता है, क्योंकि लोग कैब सेवाएं देने वाली कंपनियों के अधिकतम किराए पर लगाम लगाने की लंबे समय से मांग कर रहे थे. यह पहली बार है जब भारत में ओला और उबर जैसे कैब एग्रीगेटर्स को रेग्यूलेट करने के लिए सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं.

कार पूल करने वाले कमर्शियल प्लेटफॉर्म्स को भी नियमों का पालन करना होगा और इस लाइसेंस हालिस करना होगा. हालांकि, नए नियम तभी लागू होंगे, जब राज्य सरकारें उनसे जुड़ी अधिसूचना जारी करेंगे.

इसे भी पढ़ें: वैक्सीन का जायजा लेने पीएम मोदी पहुंचे अहमदाबाद, पुणे व हैदराबाद भी जाएंगे

कैब कंपनियों को डेटा स्थानीयकरण सुनिश्चित करना होगा कि डेटा भारतीय सर्वर में न्यूनतम तीन महीने और अधिकतम चार महीने उस तारीख से संग्रहीत किया जाए, जिस दिन डेटा जेनरेट किया गया था.

डेटा को भारत सरकार के कानून के अनुसार सुलभ बनाना होगा लेकिन ग्राहकों के डेटा को यूजर्स की सहमति के बिना शेयर नहीं किया जाएगा. कैब एग्रीगेटर्स को एक 24x7 कंट्रोल रूम स्थापित करना होगा और सभी ड्राइवरों को अनिवार्य रूप से हर समय कंट्रोल रूम से जुड़ा होना होग.

नए नियमों के मुताबिक, कैब कंपनी को बेस फेयर से 50 फीसदी कम चार्ज करने की अनुमति होगी. केंद्र सरकार ने एग्रीगेटर को रेगुलेट करने के लिए गाइडलाइन्स जारी किया है जिसका राज्य सरकारों को भी पालन करना अनिवार्य होगा.

वहीं, कैंसिलेशन फीस कुल किराए का दस प्रतिशत होगा, जो राइडर और ड्राइवर दोनों के लिए 100 रुपए से अधिक नहीं हो सकता. ड्राइवर को अब ड्राइव करने पर 80 फीसदी किराया मिलेगा, जबकि कंपनी को 20 प्रतिशत किराया ही मिल सकेगा.

मंत्रालय ने बयान में कहा है कि इससे पहले एग्रीगेटर का रेगुलेशन उपलब्ध नहीं था। अब इस नियम को ग्राहकों की सुरक्षा और ड्राइवर के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया है जिसे सभी राज्यों में लागू किया जाएगा. बता दें कि मोटर व्हीकल 1988 को मोटर व्हीकल एक्ट, 2019 से संशोधित किया गया है.



हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

केंद्र सरकारमोटर व्हीकल एक्टराज्य सरकारकैब एग्रीगेटर्सटैक्सीओलाकैब कंपनियांउबर

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

हाल में इनपुट कॉस्‍ट में बढ़ोतरी का हवाला देते हुए मारुति सुजुकी इंडिया, रेनॉ इंडिया, होंडा कार्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, फोर्ड इंडिया, इसुजु, बीएमडब्ल्यू इंडिया, ऑडी इंडिया और हीरो मोटो कार्प जैसी वाहन कंपनियां पहले ही जनवरी से कीमतें बढ़ाने की घोषणा कर चुकी हैं.कंपनी ने बताया है कि कच्चे माल की कीमत बढ़ने से लागत में इजाफा हुआ है. उसकी भरपाई के लिए दाम बढ़ाना जरूरी हो गया है.बीएमडब्ल्यू ने पेश की नई 2021 आर नाइनटी, जानिए इसकी खूबियां

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने शुक्रवार को संकेत दिए कि कमोडिटी के कीमतों में आई तेजी के चलते आने वाले कुछ महीनों में वह अपने वाहनों की कीमत बढ़ा सकती है.क्‍या आप 2021 में कार खरीदने की योजना बना रहे हैं? अगर हां तो कारदेखो डॉट कॉम के साथ हम यहां आपको कुछ शानदार विकल्‍पों के बारे में बता रहे हैं. कार के ये मॉडल इस साल लॉन्‍च हो सकते हैं या हो गए हैं. हमने यहां 15 लाख से 40 लाख रुपये की कैटेगरी में सबसे अच्‍छी कारों को चुना है.साल 2020 में कार और बाइक्स ने मचाई धूम, जानिए क्या है कीमत

इसके पहले मारुति सुजुकी, फोर्ड, महिंद्रा एंड महिंद्रा, रेनॉ और होंंडा अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान कर चुकी हैं.लग्जरी ऑटोमोबाइल कंपनी बीएमडब्ल्यू ने नई 2021 आर नाइनटी पेश की है. यह सुपरबाइक चार वैरियंट- स्टैंडर्ड, प्योर, स्क्रैम्बलर और अर्बन जीएस में उपलब्ध है. ये बाइक्स अलग-अलग कलर कॉम्बिनेशन में हैं.इन मॉडल्स में अर्बन जीएस अल्पाइन वाइट के साथ टेप, ब्लैकस्टॉर्म मेटालिक/रेसिंग रेड और 40 साल का जीएस वर्जन भी उपलब्ध है. अन्य तीन मॉडल स्टैंडरड ग्रे मैट मेटालिक कलर में हैं.निसान की कारें होंगी महंगी, जनवरी से 5% तक बढ़ेंगे दाम

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
lovebet सिस्तेमा 6/8

बुधवार को देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने भी अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान किया था. कीमतों में यह बढ़ोतरी जनवरी से लागू होगी.

कैसीनो के खेल

कंपनी ने बताया है कि कच्चे माल की कीमत बढ़ने से लागत में इजाफा हुआ है. उसकी भरपाई के लिए दाम बढ़ाना जरूरी हो गया है.

फुटबॉल इंडेक्स लाइव स्कोर

साल 2020 पूरी तरह के कोरोना वायरस महामारी के नाम रहा. इसकी वजह से न सिर्फ दुनिया में आर्थिक मंदी का खतरा बढ़ गया, मगर कई इंडस्ट्रीज में सुस्ती का माहौल भी छा गया. इसमें ऑटो सेक्टर भी अछूता नहीं रहा.हालांकि, इस साल कई दिग्गज कार कंपनियों ने एक-के-बाद-एक बेहतरीन और शानदार कार और बाइक्स मार्केट में उतारी. सुपरफास्ट इंजन, आकर्षक लुक्स और महंगे दाम वाली कई कार और बाइक ने बाजार को अपना दिवाना बनाया. जानिए इस साल सड़कों पर उतरी कौनसे लग्जरी वाहन:

आज टीवी पर क्रिकेट

जो लोग इन कीमती धातुओं को नहीं खरीद सकते, वे इस साल दो दिन मनाए जा रहे धनतेरस त्योहार के मौके पर स्टील के बर्तन खरीद रहे हैं.

कैसीनो ब्रह्मांड

धनतेरस और दिवाली के दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी